No icon

बीकानेर: रात को छत पर सो रही महिला के काटे बाल, बच्ची के मुंह पर लगाया पीला रंग, सरपंच ने की घटना की

बीकानेर: रात को छत पर सो रही महिला के काटे बाल, बच्ची के मुंह पर लगाया पीला रंग, सरपंच ने की घटना की पुष्टि

नोखा तहसील में इन दिनों टोना-टोटका को लेकर ग्रामीणों में दहशत का माहौल है। कई गांवों में यह ख़बर मिल रही है कि रात्रि में महिलाओं व पुरुषों के बाल काट लिये जाते है और दांत निकाल लिये जा रहे है जिससे व्यक्ति की मौत हो जाती है। यह भी चर्चा है कि रात को बाल काटकर मेहंदी लगाने जैसी तमाम चर्चा का विषय बनी हुई है। वहीं एक ताजा मामला नोखा तहसील के हिंयादेसर गांव का सामने आया है। हिंयादेसर गांव में स्थित पप्पुराम जाट ने बताया कि 12 जून यानी सोमवार रात्रि को घर की छत्त पर उसकी पत्नी नवजात बच्ची के साथ सो रही थी। रात्रि करीबन 1 बजे एक महिला आई और मेरी पत्नी के बाल काट लिये । जब पत्नी ने शोर मचाया तो एकबारगी एक महिला दिखी बाद में गायब हो गई। इसके बाद में जब पत्नी ने नवजात बच्ची को देखा तो उसके मुंह पर पीला रंग लगाया हुआ था। इस घटना की सूचना मिलते ही सरपंच विजयराम सहित कई प्रतिनिधि व ग्रामीण घटनास्थल पर पहुंचे और घटना की जानकारी ली। घर की छत पर सो रही महिला के बाल काटने का मामले के बाद ग्रामीणों में दहशत का माहौल है। लोग रात से अभी तक पहरा लगा रहे है। हिंयादेसर सरपंच विजयराम ने इस घटना की पुष्टि की है।

महिला के बाल काटने का मामला सही, गांव में दहशत का माहौल: सरपंच
हिंयादेसर गांव में घर की छत पर सो रही महिला के बाल काटने का मामला सही है। सोमवार रात्रि करीबन 1 बजे पप्पुराम जाट के घर की छत्त पर उसकी पत्नी सो रही थी तभी एक महिला आई और बाल काट लिये । शोर मचाया तो बाल काटने वाली महिला गायब हो गई। फिर पप्पुराम जाट की पत्नी ने पास सो रही नवजात बच्ची को संभाला तो उसके मुंह पर पीला रंग लगा हुआ था। इस मामले को लेकर गांव में दहशत का माहौल है। इस घटना को लेकर नोखा पुलिस को भी बताया गया है।
– विजयराम, सरपंच, हिंयादेसर, नोखा

 

6 जून को मैनसर में भी हुई थी  इस प्रकार की घटना
गौरतलब रहे कि 6 जून को मैनसर गांव के राजूराम नायक के घर में भी यह घटना सामने आई थी। राजूराम ने बताया कि रात्रि को वह ढाणी में परिवार के साथ सो रहा था। रात करीब 12 बजे एक महिला आई और उसके पैर खींचे। जब बाल पकड़कर खींचे तो उसने शोर किया, लेकिन आवाज नहीं निकली। कुछ समय बाद वह औरत चली गई। परिजनों ने बताया कि राजूराम बेहोश हो गया तथा उल्टी करने लगा। सुबह गांव के शिव बगेची के मंदिर में झाड़ फूंक करवाया गया। अब राजूराम का स्वास्थ्य ठीक है। वहीं गांव के ही लक्ष्मणराम, भंवरलाल, प्रहलादसिंह राठौड़, रामलाल सहित कई लोगों ने
बताया कि पिछले एक सप्ताह से इस तरह की घटना होना बताया है। रूपाराम कुम्हार के घर में बकरियों व राजूराम प्रजापत के छह वषर््ीय पुत्र के भी दो दिन पहले बाल काटे थे।

Comment